मानस के सिद्ध ‘मन्त्र’

श्री रामचरित मानस के सिद्ध ‘मन्त्र’

नियम-
मानस के दोहे-चौपाईयों को सिद्ध करने का विधान यह है कि किसी भी शुभ दिन की रात्रि को दस बजे के बाद अष्टांग हवन के द्वारा मन्त्र सिद्ध करना चाहिये। फिर जिस कार्य के लिये मन्त्र-जप की आवश्यकता हो, उसके लिये नित्य जप करना चाहिये। वाराणसी में भगवान् शंकरजी ने मानस की चौपाइयों को मन्त्र-शक्ति प्रदान की है-इसलिये वाराणसी की ओर मुख करके शंकरजी को साक्षी बनाकर श्रद्धा से जप करना चाहिये।
अष्टांग हवन सामग्री
१॰ चन्दन का बुरादा, २॰ तिल, ३॰ शुद्ध घी, ४॰ चीनी, ५॰ अगर, ६॰ तगर, ७॰ कपूर, ८॰ शुद्ध केसर, ९॰ नागरमोथा, १०॰ पञ्चमेवा, ११॰ जौ और १२॰ चावल।
जानने की बातें-
जिस उद्देश्य के लिये जो चौपाई, दोहा या सोरठा जप करना बताया गया है, उसको सिद्ध करने के लिये एक दिन हवन की सामग्री से उसके द्वारा (चौपाई, दोहा या सोरठा) १०८ बार हवन करना चाहिये। यह हवन केवल एक दिन करना है। मामूली शुद्ध मिट्टी की वेदी बनाकर उस पर अग्नि रखकर उसमें आहुति दे देनी चाहिये। प्रत्येक आहुति में चौपाई आदि के अन्त में ‘स्वाहा’ बोल देना चाहिये।
प्रत्येक आहुति लगभग पौन तोले की (सब चीजें मिलाकर) होनी चाहिये। इस हिसाब से १०८ आहुति के लिये एक सेर (८० तोला) सामग्री बना लेनी चाहिये। कोई चीज कम-ज्यादा हो तो कोई आपत्ति नहीं। पञ्चमेवा में पिश्ता, बादाम, किशमिश (द्राक्षा), अखरोट और काजू ले सकते हैं। इनमें से कोई चीज न मिले तो उसके बदले नौजा या मिश्री मिला सकते हैं। केसर शुद्ध ४ आने भर ही डालने से काम चल जायेगा।
हवन करते समय माला रखने की आवश्यकता १०८ की संख्या गिनने के लिये है। बैठने के लिये आसन ऊन का या कुश का होना चाहिये। सूती कपड़े का हो तो वह धोया हुआ पवित्र होना चाहिये।
मन्त्र सिद्ध करने के लिये यदि लंकाकाण्ड की चौपाई या दोहा हो तो उसे शनिवार को हवन करके करना चाहिये। दूसरे काण्डों के चौपाई-दोहे किसी भी दिन हवन करके सिद्ध किये जा सकते हैं।
सिद्ध की हुई रक्षा-रेखा की चौपाई एक बार बोलकर जहाँ बैठे हों, वहाँ अपने आसन के चारों ओर चौकोर रेखा जल या कोयले से खींच लेनी चाहिये। फिर उस चौपाई को भी ऊपर लिखे अनुसार १०८ आहुतियाँ देकर सिद्ध करना चाहिये। रक्षा-रेखा न भी खींची जाये तो भी आपत्ति नहीं है। दूसरे काम के लिये दूसरा मन्त्र सिद्ध करना हो तो उसके लिये अलग हवन करके करना होगा।
एक दिन हवन करने से वह मन्त्र सिद्ध हो गया। इसके बाद जब तक कार्य सफल न हो, तब तक उस मन्त्र (चौपाई, दोहा) आदि का प्रतिदिन कम-से-कम १०८ बार प्रातःकाल या रात्रि को, जब सुविधा हो, जप करते रहना चाहिये।
कोई दो-तीन कार्यों के लिये दो-तीन चौपाइयों का अनुष्ठान एक साथ करना चाहें तो कर सकते हैं। पर उन चौपाइयों को पहले अलग-अलग हवन करके सिद्ध कर लेना चाहिये।

१॰ विपत्ति-नाश के लिये
“राजिव नयन धरें धनु सायक। भगत बिपति भंजन सुखदायक।।”
२॰ संकट-नाश के लिये
“जौं प्रभु दीन दयालु कहावा। आरति हरन बेद जसु गावा।।
जपहिं नामु जन आरत भारी। मिटहिं कुसंकट होहिं सुखारी।।
दीन दयाल बिरिदु संभारी। हरहु नाथ मम संकट भारी।।”
३॰ कठिन क्लेश नाश के लिये
“हरन कठिन कलि कलुष कलेसू। महामोह निसि दलन दिनेसू॥”
४॰ विघ्न शांति के लिये
“सकल विघ्न व्यापहिं नहिं तेही। राम सुकृपाँ बिलोकहिं जेही॥”
५॰ खेद नाश के लिये
“जब तें राम ब्याहि घर आए। नित नव मंगल मोद बधाए॥”
६॰ चिन्ता की समाप्ति के लिये
“जय रघुवंश बनज बन भानू। गहन दनुज कुल दहन कृशानू॥”
७॰ विविध रोगों तथा उपद्रवों की शान्ति के लिये
“दैहिक दैविक भौतिक तापा।राम राज काहूहिं नहि ब्यापा॥”
८॰ मस्तिष्क की पीड़ा दूर करने के लिये
“हनूमान अंगद रन गाजे। हाँक सुनत रजनीचर भाजे।।”
९॰ विष नाश के लिये
“नाम प्रभाउ जान सिव नीको। कालकूट फलु दीन्ह अमी को।।”
१०॰ अकाल मृत्यु निवारण के लिये
“नाम पाहरु दिवस निसि ध्यान तुम्हार कपाट।
लोचन निज पद जंत्रित जाहिं प्रान केहि बाट।।”
११॰ सभी तरह की आपत्ति के विनाश के लिये / भूत भगाने के लिये
“प्रनवउँ पवन कुमार,खल बन पावक ग्यान घन।
जासु ह्रदयँ आगार, बसहिं राम सर चाप धर॥”
१२॰ नजर झाड़ने के लिये
“स्याम गौर सुंदर दोउ जोरी। निरखहिं छबि जननीं तृन तोरी।।”
१३॰ खोयी हुई वस्तु पुनः प्राप्त करने के लिए
“गई बहोर गरीब नेवाजू। सरल सबल साहिब रघुराजू।।”
१४॰ जीविका प्राप्ति केलिये
“बिस्व भरण पोषन कर जोई। ताकर नाम भरत जस होई।।”
१५॰ दरिद्रता मिटाने के लिये
“अतिथि पूज्य प्रियतम पुरारि के। कामद धन दारिद दवारि के।।”
१६॰ लक्ष्मी प्राप्ति के लिये
“जिमि सरिता सागर महुँ जाही। जद्यपि ताहि कामना नाहीं।।
तिमि सुख संपति बिनहिं बोलाएँ। धरमसील पहिं जाहिं सुभाएँ।।”
१७॰ पुत्र प्राप्ति के लिये
“प्रेम मगन कौसल्या निसिदिन जात न जान।
सुत सनेह बस माता बालचरित कर गान।।’
१८॰ सम्पत्ति की प्राप्ति के लिये
“जे सकाम नर सुनहि जे गावहि।सुख संपत्ति नाना विधि पावहि।।”
१९॰ ऋद्धि-सिद्धि प्राप्त करने के लिये
“साधक नाम जपहिं लय लाएँ। होहिं सिद्ध अनिमादिक पाएँ।।”
२०॰ सर्व-सुख-प्राप्ति के लिये
सुनहिं बिमुक्त बिरत अरु बिषई। लहहिं भगति गति संपति नई।।
२१॰ मनोरथ-सिद्धि के लिये
“भव भेषज रघुनाथ जसु सुनहिं जे नर अरु नारि।
तिन्ह कर सकल मनोरथ सिद्ध करहिं त्रिसिरारि।।”
२२॰ कुशल-क्षेम के लिये
“भुवन चारिदस भरा उछाहू। जनकसुता रघुबीर बिआहू।।”
२३॰ मुकदमा जीतने के लिये
“पवन तनय बल पवन समाना। बुधि बिबेक बिग्यान निधाना।।”
२४॰ शत्रु के सामने जाने के लिये
“कर सारंग साजि कटि भाथा। अरिदल दलन चले रघुनाथा॥”
२५॰ शत्रु को मित्र बनाने के लिये
“गरल सुधा रिपु करहिं मिताई। गोपद सिंधु अनल सितलाई।।”
२६॰ शत्रुतानाश के लिये
“बयरु न कर काहू सन कोई। राम प्रताप विषमता खोई॥”
२७॰ वार्तालाप में सफ़लता के लिये
“तेहि अवसर सुनि सिव धनु भंगा। आयउ भृगुकुल कमल पतंगा॥”
२८॰ विवाह के लिये
“तब जनक पाइ वशिष्ठ आयसु ब्याह साजि सँवारि कै।
मांडवी श्रुतकीरति उरमिला, कुँअरि लई हँकारि कै॥”
२९॰ यात्रा सफ़ल होने के लिये
“प्रबिसि नगर कीजै सब काजा। ह्रदयँ राखि कोसलपुर राजा॥”
३०॰ परीक्षा / शिक्षा की सफ़लता के लिये
“जेहि पर कृपा करहिं जनु जानी। कबि उर अजिर नचावहिं बानी॥
मोरि सुधारिहि सो सब भाँती। जासु कृपा नहिं कृपाँ अघाती॥”
३१॰ आकर्षण के लिये
“जेहि कें जेहि पर सत्य सनेहू। सो तेहि मिलइ न कछु संदेहू॥”
३२॰ स्नान से पुण्य-लाभ के लिये
“सुनि समुझहिं जन मुदित मन मज्जहिं अति अनुराग।
लहहिं चारि फल अछत तनु साधु समाज प्रयाग।।”
३३॰ निन्दा की निवृत्ति के लिये
“राम कृपाँ अवरेब सुधारी। बिबुध धारि भइ गुनद गोहारी।।
३४॰ विद्या प्राप्ति के लिये
गुरु गृहँ गए पढ़न रघुराई। अलप काल विद्या सब आई॥
३५॰ उत्सव होने के लिये
“सिय रघुबीर बिबाहु जे सप्रेम गावहिं सुनहिं।
तिन्ह कहुँ सदा उछाहु मंगलायतन राम जसु।।”
३६॰ यज्ञोपवीत धारण करके उसे सुरक्षित रखने के लिये
“जुगुति बेधि पुनि पोहिअहिं रामचरित बर ताग।
पहिरहिं सज्जन बिमल उर सोभा अति अनुराग।।”
३७॰ प्रेम बढाने के लिये
सब नर करहिं परस्पर प्रीती। चलहिं स्वधर्म निरत श्रुति नीती॥
३८॰ कातर की रक्षा के लिये
“मोरें हित हरि सम नहिं कोऊ। एहिं अवसर सहाय सोइ होऊ।।”
३९॰ भगवत्स्मरण करते हुए आराम से मरने के लिये
रामचरन दृढ प्रीति करि बालि कीन्ह तनु त्याग । 
सुमन माल जिमि कंठ तें गिरत न जानइ नाग ॥
४०॰ विचार शुद्ध करने के लिये
“ताके जुग पद कमल मनाउँ। जासु कृपाँ निरमल मति पावउँ।।”
४१॰ संशय-निवृत्ति के लिये
“राम कथा सुंदर करतारी। संसय बिहग उड़ावनिहारी।।”
४२॰ ईश्वर से अपराध क्षमा कराने के लिये
” अनुचित बहुत कहेउँ अग्याता। छमहु छमा मंदिर दोउ भ्राता।।”
४३॰ विरक्ति के लिये
“भरत चरित करि नेमु तुलसी जे सादर सुनहिं।
सीय राम पद प्रेमु अवसि होइ भव रस बिरति।।”
४४॰ ज्ञान-प्राप्ति के लिये
“छिति जल पावक गगन समीरा। पंच रचित अति अधम सरीरा।।”
४५॰ भक्ति की प्राप्ति के लिये
“भगत कल्पतरु प्रनत हित कृपासिंधु सुखधाम।
सोइ निज भगति मोहि प्रभु देहु दया करि राम।।”
४६॰ श्रीहनुमान् जी को प्रसन्न करने के लिये
“सुमिरि पवनसुत पावन नामू। अपनें बस करि राखे रामू।।”
४७॰ मोक्ष-प्राप्ति के लिये
“सत्यसंध छाँड़े सर लच्छा। काल सर्प जनु चले सपच्छा।।”
४८॰ श्री सीताराम के दर्शन के लिये
“नील सरोरुह नील मनि नील नीलधर श्याम । 
लाजहि तन सोभा निरखि कोटि कोटि सत काम ॥”
४९॰ श्रीजानकीजी के दर्शन के लिये
“जनकसुता जगजननि जानकी। अतिसय प्रिय करुनानिधान की।।”
५०॰ श्रीरामचन्द्रजी को वश में करने के लिये
“केहरि कटि पट पीतधर सुषमा सील निधान।
देखि भानुकुल भूषनहि बिसरा सखिन्ह अपान।।”
५१॰ सहज स्वरुप दर्शन के लिये
“भगत बछल प्रभु कृपा निधाना। बिस्वबास प्रगटे भगवाना।।”

 

(कल्याण से साभार उद्धृत)

31s टिप्पणियाँ »

  1. lapraney brihmbodh said

    it is certainly a apreciable work & collection taken from kalyan .it will help to cure the sufferings,despair& once certain problams/obstacles.continue to provide these things.

  2. ANIL said

    THESE ARE VERY EFFECTIVE MANTRAS THANKS FOR THESE KIND OF GOOD DEEDS.

  3. guru said

    GURUJI AADESH HAI AAP KO MAIN EK SADHAK HOON LEKIN MAINE AAJ TAK KOI BHI SHABAR MANTRA SIDH NAHI KAR PAYA HOON MUJHE YEH KAISE SIDH KARTE HAIN KIS SAMAY KARTE HAI UNKA KYA VIDHI VIDHAN HAI AUR AAM LAGNEWALI SAMAGRI KYA HONI CHAHIYE >>>>> AGAR ANYA KOI BHI MANTRA SIDHA KARNA HAI TO KIS MANTRA SHURUAAT KARNI HAI USKE BAAD MOOL MANTRA PADHNA HAI YEH MAIN JANNA CHAHTA HOON AGAR AAP MARGDARSHAN KARENGE TO BADI KRUPA HOGI GURUVARYA>>>>>>>>>>>> AAADESHHH>>>>

  4. Bikash said

    All these mantras are very helful in every aspects of live.
    But is there any mantra to get back lost love.

  5. krishan prakash saxena said

    good work done

  6. rajender said

    A.s Pudir ji vakai aap kam kable tarif hai .. jis tarha ka aapsodh kar ke iss vidhya ka purnjanam kar rahe vakai tareef k layak hai .. maine bhi kafi sodh kiya hai iin chhezo ke baare main . muslim se lekar tibatti tak .. lekin maine blog nahi banaye issliye ki muze nahi patta tha ki mere jaise sochne wale aur bhi hai … tantra mantra ek vigyan hai lekin kai log iss andhvishwas manate hai . jo apne ko modern kahlate hai, iini modern logo main ek baat kahna chahta hoo , DISCOVEY Channel Par ek Show The haunting jisme Aatmo aur adursh saktiyo real story par adharit hota hai .. Un MOdern logo se poochhna chahta hoo ki yeh sab Andhvishas hai to USS SCIENCE channel par aise SHOW kya kar rahe? yeh bhi puri tarha VIgyan he lekin log bina jane soche isse kori kalpana samaz jate hai .. Agar kisi chhez ke baare me patta nahi hai to uss cheez ke bare me kya kahna? Agar kisi ko iss baare charcha karni hai to MOST WELCOME mere paas bhi GYAN ka bhandhar hai …
    rajendermehar@gmail.com
    09911571555

  7. hamsaharish said

    please provid these mantras in kannada

  8. antivirus said

    give me the mantra to attract all people, i give by which i have the power to attract anybody

  9. antivirus said

    give me the mantra to attract all people, i give by which i have the power to attract anybody please mail me at antivirus@yuurok.com

  10. जानकारी तो आपने बहुत अच्छी दी. लेकिन चूंकि आपने हवन के लिए कांड के अनुसार दिन का विधान दिया है, अतः इसके साथ अगर आप यह भी बता सकें कि कौन सी चौपाई किस काण्ड से ली गई है तो साधकों के लिए आसानी हो जाएगी.

  11. Bhoomi said

    Namashkaar.
    Thank you for providing all these wonderful shlokas. It will help a lot of people.
    I have a doubt- please tell me what point no 40 is. It says ‘Shri Ramchandraji ko vash me karne ke liye’. I dont understand this- hum bhagwan to kyon vash me karna chahenge? Hum ko eshwar ke kripa chahiye- ye vash mein karne ki baat samaj mein nahi aaye. Muje is ka arth please samjaheye.
    Thank You very much again.
    Pranaam.

  12. jasvir bansal said

    Namaskar,
    sidha mantra bahout effective hotey hain,yeh shaktian bhagwan he dete hain,
    insaan hamesha apna swarath nikalta hai,bhagwan ko pane ke liye kush
    mangna nahi,tyaagna parta hai.
    jo tu chahta hai,woh he tu karta hai
    par hota woh hai jo main chahta hun
    jo main chahta hun,tu wohi kar
    fir woh he hoga jo tu chahega.

  13. Rishu said

    Guru ji me abhi is mantra jagat me nya hu or tantraa-mantra se pichhada hu..
    plz koi shabar mantra bataye jiss se ki jadu-tona, tantra-mantra ki kaat ho sake

  14. navneet said

    sri ram naam kudh main maha mantra hai. maanas main bhi kaha gaya hai “Yha kalikal na sadhan duja, jog, yagya, vrat, tap nahi puja, ram hi sumarya, gaiya ramahi…..”

  15. Sudesh Soni said

    Ram Ram,
    Aapne sachmuch he meri zindgi badal dee. Jo bhee in mantron ko pyar se japta rahega uska kalyan bhee sheeghra hoga.

  16. jay said

    guru ji me ek ladki se bahut pyar karta hu wo b pahle mujhe bahut chahti thi par ab wo shayad kisi or ke chakar me aarahi h ab me uske bina nhi ji sakta wo chae mujhe kuch na de bas mujhse aese hi pyar kare jese wo pahle karti thi
    ab aaphi bataye me kya karu

  17. jyothi said

    guruji me kisi se bahut pyar karti hu or wo bhi par wo abhi mujhe ignore kar rahe h jis ke karan me bahut dukhi hu ab aap hi mujhe is samashya ka hal bataye

  18. guru ji main jis bhi kaam kaaj ko marta hoo vo saphal nahi hota . mujhe usme kamyabi nahi milti mujhe har traf nirash hona padta hai main kya kroo.9878612706

  19. amit said

    guru ji me ek ladki se bahut pyar karta hu wo b pahle mujhe bahut chahti thi par ab wo shayad kisi or ke chakar me aarahi h ab me uske bina nhi ji sakta wo chae mujhe kuch na de bas mujhse aese hi pyar kare jese wo pahle karti thi ab aaphi bataye me kya karu … ladki ka name cristina

  20. sarvesh said

    guru ji mai bahut hi paresaan raheta hoon maine bahut sare kaam dhandhe kiye par kisi safal nahi ho paya aur mere ghar me bahut dikkte raheti hain kripya koi upaye bataiye

  21. chirag said

    JAY SIYA RAM sukshma shidhi mantra, jo turant fal kese de ? vo su jav bhi de ap ka tahe dil se abhar.

  22. sachin said

    Jai SiyaRam.. bahut hi upyogi samgri hai…yuva peedi ko manas ke en mantro ka pura laabh uthana chahiye…prakashan ke liye dhanyawad

  23. valmik said

    Guruji,

    PLease specify meaning of “bhav bhesaj raghunath
    jasu sunhi je nar aru nari” it is from Manas ke siddha
    mantra. What is bhav bhesaj meaning?

    PLs. answer this

    • sahin said

      Valmik ji JaiSiyaRam… Bhavbhesaj Raghunath jasu sunhi je nar aru nari ka matlab ye hai ki is mrityulok(sansaar) me bar bar janm aur maran ke chakkar se mukti dilane wale sri Raghunath ji ke yash aur sundar charitra ka jo bhi purush ya stri sachche man se sharvan karenge(sunenge) unke to saare kam Mahadev hi pure kar denge… matlab unko kisi bat ki chnita karne ki jarurat nahi sirf Ram nam ka aashray hi bahut hai…
      I hope up to some extent i figured out your prob.
      JAI SIYARAM..

  24. Subodh said

    Guru ji,

    Main 4-5 month se Jobless hoo.
    pls aware kab tak job milegi?

  25. Chhotu said

    Please give me a shabar mantra to attract anyone.

  26. rku rules said

    parnam
    sorry 2 say
    kya mantr shidh krna jaruri h,
    ya ham bahgwan jo man se yad kr mntr bolenge to wo effectiv nhi hoga.yhi janna h..
    parnam

  27. rajendra said

    guru ji mai bahut hi paresaan raheta hoon.or mai hamesa tenson me rahta hu. or mujhe mansik rahta he.kripya koi upaye bataiye

RSS feed for comments on this post · TrackBack URI

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

Join 196 other followers

%d bloggers like this: